Web hosting Review in Hindi : वेब होस्टिंग रिव्यु 2021

Web hosting : किसी भी वेबसाइट को इन्टरनेट के माध्यम से दुनिया के viewer को हर समय पर सही ढंग से दिखाने के लिए हमेशा Web hosting की जरुरत पड़ती है | यदि आप अपना खुद का वेबसाइट बनाने जा रहे है तो आपको Web hosting के साथ साथ वेबसाइट कैसे बनता है इसके बारे में जानकारी होना बहुत जरुरी होती है | आज मैं आपको बताऊंगा की Web hosting क्या होती है ? आप अपना खुद का एक वेबसाइट create कर सकते है लेकिन वेबसाइट को maintain करने के लिए प्रॉपर नॉलेज का होना बहुत जरुरी है |

जो लोग Blogging की दुनिया में नए है उन्हें Web hosting के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं होती है जिसके चलते गलत Web hosting चुन लेते है और काफी सारी परेशानियों का सामना करना पड़ता है | आज हम आपलोगों को इस आर्टिकल के माध्यम से Web hosting Review in Hindi : वेब होस्टिंग क्या है और यह कैसे कार्य करता है ? इसके क्या क्या feature है

यह भी पढ़े : hosting raja Review in hindi

Web hosting in Hindi – वेब होस्टिंग क्या है?

hosting 1

Web hosting एक प्रकार की सर्विस है जो हमे अपनी वेबसाइट को इन्टरनेट पर access करने की अनुमति प्रदान करता है | Web hosting सारे वेबसाइट को इन्टरनेट में जगह देने का सर्विस प्रदान करता है | इसके बजह से किसी व्यक्ति या कोई संस्था के वेबसाइट को पूरी दुनिया में access किया जा सकता है जिसका मतलब वेबसाइट के फाइल, विडियो , फोटो आदि को एक स्पेशल computer में स्टोर किया जाता है इसी को वेब सर्वर कहते है |

वेब सर्वर हर समय 24*7 इन्टरनेट से कनेक्टेड रहता है | किसी भी वेबसाइट को जब हम देखते है तो उसमे बहुत सारे फोटो , विडियो आदि देखने को मिल जाते है इन सब डाटा को इन्टरनेट पर लाने के लिए ऐसी जगह पर स्टोर करने की जरुरत होती है जहाँ से पब्लिक आसानी से इन्टनेट के माध्यम से डाटा को access कर सके और जानकारी प्राप्त कर सके |

Types of Web hosting in Hindi – वेब होस्टिंग के प्रकार |

वेब होस्टिंग कई प्रकार के होते है लेकिन जब हम एक वेबसाइट बनाते है तो सबसे बेस्ट होस्टिंग का चुनाव करते है जो मुख्यतः 4 प्रकार के होते है |

  • Shared
  • Dedicated
  • VPS
  • Cloud

तो आइये इन 4 प्रकार के वेबसाइट को विस्तार से जानते है |

Shared Hosting

इस होस्टिंग के नाम से ही पता चलता है की इसमें कई सारे वेबसाइट एक ही सर्वर के द्वारा रन कराया जा रहा है | उदहारण के तौर पर जब हम कही सफ़र कर रहे है और आप कैब या कार से कही जाते है तो बहुत मंहगा पड़ जाता है लेकिन उसी जगह पर आप बस के द्वरा सफ़र करते है तो आप काफी सस्ते खर्च में अपनी जगह पर पहुच जाते है क्यूंकि बस में पैसेंजर की संख्या ज्यादा होती है और इसी कारण से | ठीक उसी तरह शेयर्ड होस्टिंग के द्वारा आप वेबसाइट को चला सकते है |

shared Hosting का सबसे बड़ा demerit यह है की अगर इसमें कोई एक वेबसाइट कि रनिंग किसी बजह से स्लो हो जाती है तो बाकि वेबसाइट अपने आप स्लो हो जाती है | वेबसाइट की ट्रैफिक ज्यादा होने पर वेबसाइट की स्पीड कम हो जाएगी और technical error आना शुरू हो जाता है |

Dedicated Hosting

जिस तरह Shared hosting में बहुत सारे वेबसाइट एक ही सर्वर के द्वारा शेयर करते है लेकिन dedicated Hosting में ठीक इसका उल्टा होता है | Dedicated hosting में जो सर्वर होता है वो सिर्फ और सिर्फ एक ही वेबसाइट के फाइल को स्टोर करके रखता है और इस सर्वर की speed बहुत तेज़ होते है क्यूंकि यह शेयर नहीं करते है और यह होस्टिंग बहुत मंहगी होती है |

उदाहरण के तौर पर कोई व्यक्ति का एक बड़ा सा अपना अपना घर होता है उसमे किसी और रहने की इजाजत नहीं होती है और उस घर का रखरखाव और सारा खर्चा वो ही व्यक्ति को उठाना पड़ता है जो यह घर लिया है | यह होस्टिंग उन वेबसाइट के लिए अच्छा है जिसकी मासिक ट्रैफिक बहुत अच्छी होती है | Flipkart , Amazon जैसी बड़ी कंपनियां के बड़े वेबसाइट इसी होस्टिंग का इस्तेमाल करते है |

VPS Hosting

VPS Hosting होटल की उस रूम की तरह जहाँ पर उस रूम की सारी चीजो पर सिर्फ आपका ही हक़ होता है क्यूंकि इसमें किसी का भी शेयरिंग नहीं होती है | VPS होस्टिंग में visualization technology का प्रोयाग किया जाता है. ज्सिमे एक strong और secure server को virtually अलग अलग हिस्सों में divide कर दिया जाता है | पर हर एक virtual server केलिए अलग अलग resource use किया जाता है

ये होस्टिंग थोड़ी मंहगी होती है | इसमें ज्यादा visitors वाले वेबसाइट का इस्तेमाल किया जाता है | और यह dedicated होस्टिंग जैसी सर्विस provide कराती है | अगर आपको कम पैसो में dedicated hosting जैसी सर्विस चाहते है तो VPS hosting बहुत अच्छी है |

Cloud Hosting

Cloud वेब होस्टिंग एक ऐसा होस्टिंग है जो की दुसरे clustered servers के resources का इस्तमाल करते हैं | यहाँ पर सर्वर डाउन होने की चांस बहुत ही कम हो जाते है | क्यूंकि सफी फाइल क्लाउड में उपलब्ध रहती है और यहाँ पर हाई ट्रैफिक को भी बहुत आसानी से हैंडल किया जा सकता है |

यहाँ पर लोड को बैलेंस किया जाता है और security का भी खासकर बहुत ध्यान रखा जाता है | बाकि सर्वर की तुलना में यह सर्वर बहुत मंहगी होती है |

How to work Web hosting in Hindi – वेब होस्टिंग कैसे कार्य करता है |

hosting 2

Web hostingosting का काम हमारे डाटा को इन्टनेट पर लाना होता है जिससे कोई user हमारे वेबसाइट को access करके सारा कुछ फोटो , विडियो , फाइल और हमारी content को आसानी से देख सके |

किसी भी वेबसाइट को बनाने के लिए सबसे पहले डोमेन को होस्टिंग के सर्वर से कनेक्ट किया जाता है जिससे हमारी वेबसाइट बन जाति है और वेबसाइट का URL हमे प्राप्त हो जाता है |

किसी भी वेबसाइट को open करने के लिए यूआरएल बहुत महत्ब्पूर्ण होता है | जब यूआरएल हम किसी वेब ब्राउज़र में डालते हैं तो वेब ब्राउज़र इन्टरनेट पर होने की वजह से हमारी वेबसाइट को इन्टरनेट पर खोजता है।

हमारी वेबसाइट की डाटा वेब होस्टिंग की बजह से इन्टनेट पर मौजूद होती है तो वेब ब्राउज़र पर हमारी वेबसाइट लाइव हो जाति है और viewer आसनी से देख पाते है |

Features about Hosting in Hindi – होस्टिंग के क्या क्या feature होते है ?

होस्टिंग खरीदते समय आपको नीचे दिए गए कुछ feature पर ध्यान देना बहुत जरुरी हो जाता है | ये होस्टिंग टाइप, होस्टिंग कंपनी और प्लान के अनुसार सभी अलग अलग हो सकते है |

  • BandWidth
  • Uptime
  • storage
  • email
  • backup
  • customer support
  •  SSL Certificate
  • Database
  • Subdomains
  •  Migration from Other Hosting

इन सुबिधाओ से आप भविष्य में आने वाली होस्पटिंग से related परेशानी को आसानी से सुलझा सकते है |

होस्टिंग लेने से पहले किन बातों का ध्यान रखें ?

होस्टिंग लेने से पहले कुछ जरूरी बातों का पता होना बहुत जरूरी हैं क्योंकि गलत होस्टिंग का चुनाव आपकी वेबसाइट के लिए बिलकुल भी सही नही रहेगा होस्टिंग लेने से पहले किन बातों का ध्यान रखना है आइये जानते हैं।

  1. किसी भी होस्टिंग खरीदने से पहले ये देखना है की होस्टिंग कंपनी कितनी पुरानी है | क्यूंकि नयी वेब होस्टिंग का use करना रिस्क भरा काम हो सकता है |
  2. नयी वेब होस्टिंग कंपनी जो ज्यादा पोपुलर और वास्तविक नहीं है उससे वेब होस्टिंग नहीं ख़रीदे | इस तरह की कंपनी के द्वारा दी गयी सर्विस का कोई भरोसा नहीं है |
  3. होस्टिंग खरीदते समय सर्वर की लोकेशन असल में बहुत मायने रखती है अगर आप इंडिया में रहते हैं तो आपको इंडिया का सर्वर ही लेना चाहिए जिससे इंडिया के विजिटर जब आपकी साईट पर आते हैं तो सर्वर इंडिया में होने की वजह से आपकी साईट को लोड होने में ज्यादा टाइम नही लगता है।
  4. वेब होस्टिंग कंपनी का Support बहुत ही अच्छा होना चाहिए और यह 24×7 होना ही चाहिए है जिससे जब कभी भी आपकी साईट में कोई प्रॉब्लम आती है तो आप लाइव सपोर्ट से मदद ले सकते है।

वैसे तो हमने सभी जानकारी प्रदान करने की कोशिश की है लेकिन फ़िर भी अगर कोई सवाल रह गया है तो आप हमनें कमेंट बॉक्स के माध्यम से पूछ सकते हैं जिसका हम जल्दी से जवाब देने का प्रयास करेगें।

तो उमीद करते है अब आपको Web hosting की पूरी जानकारी मिल गयी होगी तो अगर आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आता है और इसे आपकों कुछ सीखनें को मिलता है तो इसे अपने उन्ह दोस्तों के साथ जरूर Share करे

Leave a Comment